Welcome to Rajasthan Tourism

  • धौलपुर

    धौलपुर

    लाल पत्थर की भूमि

धौलपुर

लाल पत्थर की भूमि

धौलपुर स्वतंत्रता से पहले धौलपुर रियासत की जागीर था। 1982 में यह एक अलग ज़िला बना, जिसमें भरतपुर की चार तहसील - धौलपुर, राजाखेड़ा, बाड़ी और बसेड़ी शामिल हुए। धौलपुर के उत्तर में आगरा, दक्षिण में मध्य प्रदेश का मुरैना ज़िला और पश्चिम में करौली है। धौलपुर पुरानी सभ्यता का साक्षी और समृद्ध सांस्कृतिक विरासत का धनी है। यहाँ का लाल बलुआ पत्थर, पूरे भारत में सप्लाई किया जाता है तथा दिल्ली के लाल क़िले के निर्माण में भी इसी का प्रयोग किया जाता था। धौलपुर का इतिहास प्राचीन बुद्ध काल से माना जाता है। राजा धवल देव, जिसे ’धोलन देव तोमर’ के नाम से भी जाना जाता था, इनके नाम पर इस राज्य का नाम धवलपुरी रखा गया। इन्होंने 700 ई.पू. में इस शहर की स्थापना की। हालांकि कुछ इतिहासकारों ने इसे 1005 ई. का माना है। बाद में इसका नाम ’धौलपुर’ रखा गया। सदियों तक धौलपुर मौर्य साम्राज्य का हिस्सा बना रहा तथा मुगलकाल में मुगलों के अधीन रहा। 9वीं से 10वीं सदी तक, धौलपुर में चौहान राजपूत राजाओं का शासन रहा। सन् 1194 तक यह फिर मुगल शासक मोहम्मद ग़ौरी के अधीन रहा।

धौलपुर में आने और तलाशने के लिए आकर्षण और जगहें

धौलपुर में आपको विस्मयकारी आकर्षण और अनूठे स्थल देखने को मिलेंगे। राजस्थान में हमेषा कुछ अनूठा देखने को मिलता है।

Pointer Icon
  • सिटी पैलेस

    सिटी पैलेस

    इसे धौलपुर महल के नाम से भी जाना जाता है। प्राचीन स्थापत्य कला से परिपूर्ण यह महल, शाही परिवार का निवास स्थान था। पूरा महल लाल बलुआ पत्थर से बना हुआ है तथा प्राचीन इतिहास और भव्यता को दर्शाता है। दक्षिण पूर्व में चंबल के बीहड़ वन और उत्तर पश्चिम में सुंदर आगरा शहर के होने के कारण, सिटी पैलेस में आने वाले पर्यटक, शाही युग की सैर के साथ साथ, प्राकृतिक छटा का भी आनन्द लेते हैं।

  • शाही बावड़ी

    शाही बावड़ी

    शहर में स्थित, निहालेश्वर मंदिर के पीछे, शाही बावड़ी स्थित है, जो कि सन् 1873 - 1880 के बीच निर्मित की गई थी। यह चार मंज़िला इमारत है तथा पत्थर की नक़्काशी और सुन्दर कलात्मक स्तम्भों के लिए प्रसिद्ध है।

  • निहाल टावर

    निहाल टावर

    राजा निहाल सिंह द्वारा सन् 1880 में शुरू किया गया यह टावर, स्थानीय घंटाघर के रूप में, 1910 के आस पास राजा रामसिंह द्वारा पूरा कराया गया। टाउन हॉल रोड पर बना यह घंटा घर 150 फुट ऊँचा है तथा 120 फुट के क्षेत्र में फैला हुआ है। इसमें 12 समान आकार के द्वार हैं।

  • शिव मंदिर और चौंसठ योगिनी मंदिर

    शिव मंदिर और चौंसठ योगिनी मंदिर

    सबसे पुराने शिव मंदिरों में से एक, चोपरा शिव मंदिर, 19वीं सदी में बनाया गया था। प्रत्येक सोमवार को यहाँ भक्तों की भीड़ नजर आती है, क्योंकि सोमवार का दिन भगवान शिव का माना जाता है। इसकी स्थापत्य कला अनूठी है। मार्च के महीने में महा शिवरात्रि के अवसर पर, तीर्थयात्री दूर दूर से आते हैं तथा मेले में भाग लेते हैं।

  • शेरगढ़ क़िला

    शेरगढ़ क़िला

    जोधपुर के महाराजा मालदेव ने शेरगढ़ क़िला, मेवाड़ के शासकों से रक्षा हेतु बनवाया था। 1540 ई. में दिल्ली के शेरशाह सूरी ने इसका पुननिर्माण करवाया तथा अपने नाम पर इसका नाम शेरगढ़ रखा। यह किला धौलपुर के दक्षिण में स्थित है तथा इसमें बड़ी बारीक़ वास्तुशैली से सुसज्जित, नक़्काशीदार छवियाँ, हिन्दू देवी देवताओं की तथा जैन मूर्तियाँ आकर्षण का केन्द्र हैं। जल स्त्रोतों से संरक्षित शेरगढ़ क़िला, एक ऐतिहासिक इमारत है।

  • मुचुकुंड

    मुचुकुंड

    सूर्यवंशीय साम्राज्य के 24वें शासक, राजा मुचुकुंद के नाम पर इस प्राचीन और पवित्र स्थल का नाम रखा गया। शहर से लगभग 4 कि.मी. की दूरी पर, यह स्थल भगवान राम से पहले, 19वीं पीढ़ी तक, राजा मुचुकुंद के शाही कार्यस्थल के रूप में रहा। प्राचीन धार्मिक साहित्य के अनुसार, राजा मुचुकुंद एक बार गहरी नींद में सोया हुआ था, तभी दैत्य कालयमन ने अचानक उसे उठा लिया। परन्तु एक दैवीय आशीर्वाद से दैत्य जलकर भस्म हो गया। इसी कारण यह प्राचीन पावन तीर्थ स्थल माना जाता है।

  • शेर शिखर गुरूद्वारा

    शेर शिखर गुरूद्वारा

    मुचुकुंद के पास, यह गुरूद्वारा, सिख गुरू हरगोविन्द साहिब की धौलपुर यात्रा के कारण, स्थापित किया गया था। शेर शिखर गुरूद्वारा, सिखधर्म में बहुत महत्वपूर्ण माना जाता है तथा ऐतिहासिक महत्व व श्रृद्धा का स्थान रखता है। देश भर से सिख समुदाय के लोग यहाँ पर शीश झुकाने आते हैं।

  • मुग़ल गार्डन, झोर

    मुग़ल गार्डन, झोर

    मुग़ल सम्राट बाबर के ज़माने में बनाया गया, यह गार्डन, सबसे पुराना मुग़ल गार्डन माना जाता है तथा ’बाग़-ए-नीलोफर’ के रूप में जाना जाता है। वर्तमान में बग़ीचे का मूल स्वरूप नहीं रहा, परन्तु किया गया निर्माण मौजूद है।

  • दमोह

    दमोह

    यह एक सुंदर झरना है, परन्तु गर्मी के मौसम में यह सूख जाता है। सरमथुरा तहसील में, यह आगंतुकों के लिए, जुलाई से सितम्बर तक, बरसात आने के साथ ही बहना शुरू हो जाता है तथा हरियाली के साथ ही, जीव जंतु भी नज़र आने लगते हैं।

  • तालाब ए शाही

    तालाब ए शाही

    सन् 1617 ई. में यह तालाब के नाम से एक ख़ूबसूरत झील, शहज़ादे शाहजहाँ के लिए शिकारगाह के रूप में बनवाई गई थी। धौलपुर से 27 कि.मी. दूर और बाड़ी से 5 कि.मी. की दूरी पर, यह झील, राजस्थान की ख़ूबसूरत झीलों में से एक है। यहाँ पर सर्दियों के मौसम में कई प्रकार के प्रवासी पक्षी अपने घोंसले बनाने के लिए आते हैं जैसे - पिंटेल, रैड कार्स्टेड पोच, बत्तख़, कबूतर आदि।

  • वन विहार अभ्यारण्य

    वन विहार अभ्यारण्य

    धौलपुर के शासकों के मनोरंजन के लिए यह अभ्यारण्य 24 वर्ग किलोमीटर के क्षेत्र में बनाया गया था। यह अभ्यारण्य माना जाता है पर्यटकों तथा विशेषकर प्रकृति प्रेमियों के आकर्षण का केन्द्र, यहाँ पाए जाने वाले साँभर, चीतल, नील गाय, जंगली सूअर, भालू, हाईना और तेंदुआ जैसे जीवों के साथ-साथ, विभिन्न वनस्पतियों का भण्डार है।

धौलपुर के उत्सव और परम्पराओं के आंनद में सम्मिलित हों। राजस्थान में हर दिन एक उत्सव है।

Pointer Icon

धौलपुर में गतिविधियाँ, पर्यटन और रोमांच आपकी प्रतीक्षा कर रहे हैं। राजस्थान में करने के लिए सदैव कुछ निराला है।

Pointer Icon
  • रामसागर वन्यजीव अभयारण्य की सैर

    रामसागर वन्यजीव अभयारण्य की सैर

    इस अभ्यारण्य के चारों तरफ रामसागर झील है। इस रमणीय स्थल में स्तनधारियों के साथ साथ दुर्लभ मछलियाँ, मगरमच्छ और सांप जैसी प्रजातियाँ भी पाई जाती हैं। जलमग्न दुर्लभ पक्षी, सफेद मुर्गियाँ, मूर हैन्स, जैकंस, सैंड पाइपर्स जैसे प्रवासी पक्षी भी सर्दियों में यहाँ आते हैं तथा विचरण करते हैं।

  • चम्बल घड़ियाल अभ्यारण्य

    चम्बल घड़ियाल अभ्यारण्य

    यह अभ्यारण्य उत्तरप्रदेश, मध्य प्रदेश और राजस्थान का एक त्रिकोणीय संरक्षित वन क्षेत्र है। यहाँ लुप्तप्रायः तथा दुर्लभ घड़ियाल (छोटे मगरमच्छ), लाल कछुए और डॉल्फिन, पर्यटकों के लिए आकर्षण का केन्द्र हैं। प्रकृति प्रेमियों और वन्यजीवों के छायांकन के शौक़ीनों के लिए ’चम्बल घड़ियाल अभ्यारण्य’, राजस्थान में बहुत महत्वपूर्ण है।

यहाँ कैसे पहुंचें

यहाँ कैसे पहुंचें

  • Flight Icon धौलपुर से केवल 55 कि.मी. की दूरी पर आगरा का हवाई अड्डा है।
  • Car Icon राजस्थान के सभी शहरों से यहाँ के लिए बसें उपलब्ध हैं।
  • Train Icon धौलपुर जंक्शन भारत के सभी शहरों से जुड़ा है।

मैं धौलपुर का दौरा करना चाहता हूं

अपनी यात्रा की योजना बनाएं

धौलपुर के समीप देखने योग्य स्थल

  • भरतपुर

    99 कि.मी.

  • सवाईमाधोपुर

    212 कि.मी.

  • अलवर

    209 कि.मी.