Welcome to Rajasthan Tourism

  • अलवर

    अलवर

    राजस्थान का प्रवेश द्वार

    सिलिसेढ़ लेक पैलेस

अलवर

राजपुत्रों का शहर

यह शहर राजस्थान का सिंहद्वार है और आदिकाल में मत्स्य देश के नाम से भी जाना जाता है। यहीं पर महाभारत के शक्तिशाली नायक पांडवों ने 13 वर्षों तक निर्वासन के अन्तिम वर्ष बिताए थे। इसकी परम्पराओं को विराटनगर के क्षेत्र में पुनः देखा जा सकता है। इसकी उत्पत्ति 1500 ई. पू. मानी जाती है। हरे भरे, जंगलों, फूलों और लताओं से आच्छादित, अरावली की पहाड़ियों की गोद में बसा अलवर, उत्तम वास्तुकला को दर्शाता है। सुन्दर महल, शांत झील, शाही शिकारगाह, पर्यटकों को अत्यधिक आकर्षित करते हैं।

अलवर में आए और तलाशने के लिए आकर्षण और जगहें

अलवर आएं और अद्भुत और विविध दर्शनीय स्थलों का आनंद लें। देखें, राजस्थान में बहुत कुछ अनूठा देखने को मिलता है।

Pointer Icon
  • बाला क़िला

    बाला क़िला

    बाला किला (युवा किला) 10 वीं शताब्दी के मिट्टी के किले की नींव पर बनाया गया था और यह एक पहाड़ी के ऊपर स्थित एक विशाल संरचना है। यहाँ की मजबूत किलेबंदी, सुंदर संगमरमर के स्तंभ और नाजुक जालीदार झरोखे विशेष रूप से दर्शनीय हैं। बाला किला में प्रवेश के छह द्वार हैं, जय पोल, सूरज पोल, लक्ष्मण पोल, चांद पोल, कृष्ण पोल और अंधेरी गेट। वर्तमान में किले तक प्रताप बंध चौकी से जयपोल होते हुए सड़क मार्ग से पहुँचा जा सकता है। बाला किला बफर वन क्षेत्र में पर्यटकों के लिए सफारी की सुविधा भी उपलब्ध है | प्रवेश निषेध : बुधवार

  • अलवर सिटी पैलेस

    अलवर सिटी पैलेस

    अलवर का सिटी पैलेस राजा बख्तावर सिंह द्वारा सन् 1793 ई. में निर्मित किया गया तथा इसकी वास्तुकला में राजपुताना व इस्लामिक शैलियों का सुन्दर समन्वय है। इसके आंगन में कमल के फूल के आकार का संगमरमर का मण्डप है, जो इसे अद्भुत सुन्दरता प्रदान करता है। वर्तमान में इस पैलेस में सरकारी कार्यालय संचालित किए जाते हैं।

  • राजकीय  संग्रहालय

    राजकीय संग्रहालय

    अलवर के महाराजाओं जीवन शैली से परिचय करने के लिए राजकीय संग्रहालय उल्लेखनीय स्थल है। यहाँ दुर्लभ पांडुलिपियों जैसे बाबरनामा, रागमाला चित्रों और लघु चित्रों और शस्त्रागार के व्यापक प्रदर्शन सहित विविध पुरासामग्री को तीन बड़े हॉल में प्रदर्शित किया गया है। प्रवेश समय : प्रातः 9.45 से सांय 4.45 तक

  • मूसी महारानी की छतरी

    मूसी महारानी की छतरी

    महाराजा बख्तावर सिंह और उनकी रानी रानी मूसी की स्मृति में निर्मित यह स्मारक १९ वी शताब्दी की वास्तुकला का अनुपम उदाहरण है। स्तंभित मंडपऔर गुंबददार मेहराब बाला छतरी का ऊपरी भाग संगमरमर से बना है जबकि निचले भाग में लाल बलुआ पत्थर का उपयोग किया गया हैं। पौराणिक और दरबारी दृश्य पेंटिंगे और मूर्तियां छत को सुशोभित करती हैं। इसके समीप ही एक कृत्रिम झील सागर स्थित है, इसमें ज्यामितीय स्वरुप में सीढियों और छतरियों का विशेष रूप से मैं उल्लेखनीय है।

  • फतेहजंग गुम्बद

    फतेहजंग गुम्बद

    मुग़ल बादशाह शाहजहाँ के दरबार में मंत्री ख़ानजादा फतेहजंग की स्मृति में यह गुम्बद बनवाया गया था। बलुआ पत्थर से बने इस विशाल गुम्बद में हिन्दू मुस्लिम वास्तुकला के परिचय के साथ, गुम्बदों और मीनारों का संयोजन है। यह पाँच मंजिला गुम्बद एक चौकोर आधार पर स्थित है तथा प्रत्येक मंजिल में दरवाजे और छोटे छोटे झरोखे बने हुए हैं। ऊपरी मंजिल पर चारों कोणों में मीनार और गुम्बद के शिखर पर कमल पंखुड़ीनुमा सरंचना के बीच चार खम्भों की छतरी हैं।

  • पुरजन विहार

    पुरजन विहार

    यह एक हैरिटेज पार्क है तथा पूर्व में कम्पनी गार्डन के नाम से जाना जाता था। अन्य स्थानों की तुलना में अधिक ठण्डा रहने के कारण, इसे महाराजा मंगल सिंह ने सन् 1885 ई. में ’शिमला’ नाम दिया था। गर्मी के मौसम से राहत देने के लिए, यहाँ तरह तरह के पेड़ पौधे तथा फव्वारें लगाए गए हैं। यह गुम्बदनुमा शिमला, धरातल में 25 फुट गहराई में बनाया गया है।

  • भानगढ़

    भानगढ़

    सरिस्का वन्य अभ्यारण्य से पचास कि.मी. दूरी पर भानगढ़ स्थित है। आमेर के महाराजा भगवनदास के पुत्र माधव सिंह ने अपनी प्रथम नगरी के रुप में भानगढ़ की स्थापना की थी। कालान्तर में भानगढ़ के वीरान होने के संबंध में किंवदंतियां तंत्र मंत्रों की हैं। भानगढ़ को भारत में सर्वाधिक रहस्यमयी स्थान होने का गाौरव प्राप्त है। आज भी इस किले के खण्डहरों में सात मंज़िला महल के अवशेष, सुव्यवस्थित बाजार, दुकानें तथा सोमेश्वर महादेव मंदिर, गणेश मंदिर, तालाब नज़र आते हैं। इस क्षेत्र में केवडे़ के पेड़ भी अत्यधिक संख्या में पाए जाते हैं। प्रवेश समय : सूर्योदय से सूर्यास्त

  • गरवा जी झरना

    गरवा जी झरना

    गरवा जी झरना / वॉटर फॉल्स पर्यटकों के लिए एक लोकप्रिय स्थान है। चट्टान दर चट्टान नीचे गिरते हुए पानी की तेज धार वाले मनोरम दृश्य से ओतप्रोत यह जगह सुहाना समां बांधती है। स्थानीय लोगों के साथ ही छायाकारों (फोटोग्राफरों) और प्रकृति प्रेमियों के लिए भी मनभावन स्थल है। अरावली की पहाड़ियों के बीच स्थित यह प्राकृतिक सुरम्य स्थल ट्रैकिंग लिए भी यह एक आदर्श स्थल है।

  • राजा भृतहरि पैनोरमा

    राजा भृतहरि पैनोरमा

    राजा भर्तृहरि जी मालवा क्षेत्र के शासक थे और बाद में उन्होंने आध्यात्मिकता की तलाश में अपना राज्य छोड़ दिया। उन्होंने अलवर-विराटनगर के जंगलों में लम्बे समय तक यात्रा की। गुरु गोरखनाथ के शिष्य के रूप में राजपरिवार द्वारा तपस्या करने और फिर जनमानस में बसने की दिलचस्प कहानी इस परिदृश्य में जीवंत हो उठती है। पैनोरमा भवन अपने आप में एक आकर्षक वास्तुशिल्प इमारत है। इस मनोरम दृश्य को देखे बिना अलवर की यात्रा पूरी नहीं हो सकती। प्रवेश समयः सुबह 10.00 बजे से शाम 05.00 बजे तक

  • पांडुपोल हनुमान मंदिर

    पांडुपोल हनुमान मंदिर

    अलवर के प्रसिद्ध धार्मिक स्थलों में से पांडुपोल का सम्बन्ध हनुमान जी से है, जिनकी मूर्ति लेटी हुई अवस्था में है। सरिस्का अभ्यारण्य के गेट के माध्यम से इस मंदिर की ओर रास्ता है। पौराणिक कथा के अनुसार, पांडव भाईयों ने अपने निर्वासन के समय यहाँ शरण ली थी। पांडुपोल या पांडु द्वार पर भारी चट्टानों के बीच से एक झरना निकलता दिखाई पड़ता है। इस बारे में कहा जाता है कि भीम ने अपनी गदा से यहां मार्ग बनाया था। इस मंदिर में प्रत्येक शनिवार, मंगलवार और पूर्णिमा के दिन प्रवेश अनुमत है । शेष दिवस सफारी के द्वारा भी यहाँ पंहुचा जा सकता है । प्रवेश समय प्रातः 8 बजे से सांय 3 बजे तक

  • जयसमंद

    जयसमंद

    इस कृत्रिम बांध का निर्माण 1910 में महाराजा जय सिंह ने करवाया था। इसके किनारे पर छायांकित मंडप और सुंदर छतरियां हैं। मानसून के दौरान जयसमंद एक उत्कृष्ट भ्रमण स्थल है, जब पूरा परिदृश्य हरा-भरा हो जाता है।

  • सिलीसेढ झील

    सिलीसेढ झील

    अलवर के दक्षिण-पश्चिम में 15 किलोमीटर की दूरी पर स्थित, यह शांत झील सुंदर पहाड़ियों और परिदृश्य के बीच स्थित है। वर्ष 1845 में महाराजा विनय सिंह ने अपनी रानी शीला के लिए यहां एक शिकार महल का निर्माण किया। वर्तमान में यह राजस्थान पर्यटन विकास निगम द्वारा हैरिटेज होटल के रूप में संचालित किया जा रहा है। यहाँ पर्यटक झील में नौका विहार का आनंद ले सकते हैं। सर्दियों में यहाँ विभिन्न प्रजातियों के पक्षी तथा पानी में तैरती बतखें व मगरमच्छ पर्यटकों का मन मोह लेते हैं।

  • सरिस्का टाइगर रिज़र्व

    सरिस्का टाइगर रिज़र्व

    अलवर जिले का सबसे लोकप्रिय पर्यटक स्थल सरिस्का बाघ अभ्यारण्य है | प्राकर्तिक जैव विविधताओं से परिपूर्ण सरिस्का क्षेत्र को 1955 में अभ्यारण्य 1979 में राष्ट्रीय उद्यान घोषित किया गया। इसका वन क्षेत्र लगभग 1203 कि.मी. में विस्तृत है। बाघ के अलावा यहाँ विविध पशु पक्षियों की प्रजातियाँ जैसे - - नीलगाय, लोमड़ी, जंगली सुअर, खरगोश, तेन्दुआ, चीतल, सांभर, बन्दर पाए जाते हैं। पक्षियो में जंगल वैबलर, बुलबुल, क्विल, केस्ट्रेड सर्पेन्ट, ईगल, रैड स्परफाउल, सैण्डग्राउज, वुडपेकर आदि पाए जाते हैं। यहाँ पर पर्यटकों के लिए जीप व कैन्टर द्वारा जंगल सफारी की सुविधा उपलब्ध है। नोट : प्रत्येक बुधवार अभ्यारण में प्रवेश निषेध होने के कारण सफारी सुविधा अनुपलब्ध रहती है।

  • श्री चंद्रप्रभजी जैन मंदिर, तिजारा

    श्री चंद्रप्रभजी जैन मंदिर, तिजारा

    अलवर दिल्ली मार्ग से लगभग 60 कि.मी. की दूरी पर यह जैन तीर्थ स्थल बना हुआ है। आठवें तीर्थंकर श्री चन्द्र प्रभा भगवान की स्मृति में यह प्राचीन मन्दिर बनवाया गया था। राजा महासेन और रानी सुलक्षणा के पुत्र ने अपने इस राज्य पर शासन करने के बाद, यहीं पर दीक्षा प्राप्त की थी। कई वर्षों तक मानव सेवा करने के बाद, उन्होंने एक माह तक ध्यान किया तथा निर्वाण प्राप्त किया। मंदिर में भगवान् श्री चंद्र प्रभु की धवल पाषाण की पद्मासन मुद्रा में मनोहारी मूर्ति विराजमान है।

  • मोती डूंगरी

    मोती डूंगरी

    सन् 1882 ई. में यह अलवर के शाही परिवार का निवास स्थल था। सन् 1849 में महाराजा विनय सिंह ने शहर के नज़दीक एक पहाड़ी पर मोती डूंगरी महल बनवाया था। यहाँ से शहर का नयनाभिराम दृश्य देखा जा सकता है। 1928 के बाद महाराजा जयसिंह ने पुराने महल को ध्वस्त कर दिया था। मोती डूंगरी के नीचे की तरफ एक पार्क का निर्माण भी किया गया था। इस पार्क में ख़रगोश, मिनी पिग, हैज-हॉक तथा अन्य कई प्रकार की प्रजातियों के प्राणी यहाँ विचरण करते हैं।

  • तालवृक्ष

    तालवृक्ष

    यह अलवर से 40 कि.मी. की दूरी पर बना वह स्थल है जहाँ मांडव ऋषि ने तपस्या की थी। महाभारत काल के अनुसार, अर्जुन ने अज्ञातवास के दौरान, अपने हथियार तालवृक्ष स्थित एक विशाल वृक्ष के तने में छिपाए थे। सरिस्का वनक्षेत्र के नजदीक होने के कारण, यहाँ अरावली क्षेत्र की प्राकृतिक वनस्पति, ताड़ के लम्बे लम्बे पेड़ तथा जीव-जन्तु विचरण करते हैं। ताल वृक्ष मन्दिर परिसर में दो ठण्डे व गर्म पानी के कुण्ड बने हुए हैं, जहाँ तीर्थयात्री स्नान करते हैं। शाम के समय मंदिर की घंटियों की मधुर ध्वनि, पक्षियों का कलरव तथा बंदरों की उछल कूद, बरबस ही पर्यटकों को आकर्षित करती है।

  • भर्तृहरी मंदिर

    भर्तृहरी मंदिर

    अलवर के लोक देवता भर्तृहरी जी एक राजा थे। उनके जीवन के अन्तिम वर्ष यहीं बीते थे। महाराजा जयसिंह ने 1924 में भर्तृहरी जी के मंदिर को नया स्वरूप दिया। मंदिर में एक अखण्ड ज्योत सदैव प्रज्वलित रहती है। यहाँ मुख्य मेला भाद्रपद की अष्टमी को लगता है, जिसमें बड़ी संख्या में श्रृद्धालु बाबा भर्तृहरी की आराधना करने आते हैं। पास में ही, हनुमान मंदिर, शिव मंदिर और श्रीराम मंदिर भी स्थित है।

  • नारायणी माता

    नारायणी माता

    अलवर से दक्षिण पश्चिम की ओर, 80 कि.मी. की दूरी पर नारायणी माता को समर्पित यह मंदिर, स्थानीय लोगों में बड़ी मान्यता रखता है। वैशाख माह में यहाँ प्रतिवर्ष एक मेले का आयोजन किया जाता है, जिसमें बड़ी संख्या में श्रृद्धालु दर्शनार्थ आते हैं। यहाँ पर एक गर्म पानी का झरना भी है, जिसमें भक्तगण स्नान करते हैं।

  • नीलकंठ

    नीलकंठ

    सरिस्का से, टहला गेट की ओर लगभग 30 कि.मी. की दूरी पर राजौरगढ में नीलकण्ठ मंदिर स्थित है। किसी समय यहाँ खजुराहो शैली एवं स्थापत्य से प्रभावित अनेक मंदिर थे। पहाड़ियों से घिरे, इस मंदिर के गर्भगृह में काले पत्थर का शिवलिंग है। यहाँ अखण्ड ज्योत जलती रहती है। मंदिर का शिखर भाग उत्तर भारतीय शैली का है और अधो भाग में चारों ओर देवी देवताओं, अप्सराओं, नायक नायिकाओं की मूर्तियां उत्कीर्ण हैं। ब्रह्मा, शिव, विष्णु, सूर्य गणेश, नृसिंह अवतार आदि की मूर्तियाँ, पौराणिक कथाओं को कलात्मक स्वरूप में अभिव्यक्त करती हैं। नीलकंठ मंदिर से कुछ दूरी पर जैन तीर्थंकर शान्तिनाथ जी की विशाल मूर्ति है, जिसे स्थानीय लोग ’नौ ग़ज़ा’ भी कहते है, क्योंकि यह 6 फुट ऊँची व 6 फुट चौड़ी है। प्रतिमा के सिर के पीछे एक प्रभामण्डल शोभायमान है। मंदिर के खण्डहरों में नृत्यांगनाओं, अप्सराओं, देवी देवताओं, हाथियों आदि की मूर्तियाँ और अवशेष दर्शनीय हैं। जैन और शैव मंदिरों का पास पास होना, मिली जुली संस्कृति का परिचायक है।

  • नल्देश्वर स्थल

    नल्देश्वर स्थल

    यह एक प्राचीन शिव मंदिर है तथा अलवर से नी 24 कि.मी. की दूरी पर दक्षिण की ओर यह के मंदिर चट्टानी पहाड़ियों से घिरा हुआ है। नटनी का बारां से कुछ आगे जाने पर ट्रैकिंग करते हुए यहाँ पंहुचा जाता है । इन पहाड़ियों से बरसात के मौसम में प्राकृतिक झरनों से कलकल करता पानी, दो तालाबों में आता है। बेहद सुरम्य, शांतिपूर्ण और प्रकृति के सौन्दर्य से परिपूर्ण यह तीर्थस्थल, पर्यटकों तथा भक्तों के लिए स्वर्ग समान है।

  • नीमराना बावड़ी

    नीमराना बावड़ी

    पुराने समय में बावड़ियाँ वर्षा का जल एकत्र करने तथा जल की कमी होने पर जलापूर्ति के लिए बनवाई जाती थीं। नीमराना बावड़ी, दिल्ली त जयपुर हाइवे से लगभग 3 कि.मी. दूर स्थित है। कहा जाता है कि 1740 ई. में राजा माहसिंह देव ने यह नौ मंज़िला भूमिगल बावड़ी बनवाई थी। इसकी प्रत्येक मंजिल में छोटे छोटे की कमरे बने हैं। इसकी नौ में से दो मंज़िलें पानी में डूबी रहती थीं। प्रत्येक मंजिल की ऊँचाई लगभग 20 फुट है।

  • लाल मस्जिद, तिजारा

    लाल मस्जिद, तिजारा

    तिजारा कस्बे के पूर्व में स्थित मस्जिद लाल मस्जिद के नाम से मशहूर है। लाल बलुआ पत्थर की संरचना आयताकार है जिसके चार कोनों पर मीनारें और मेहराबदार दरवाजे हैं। तीन मेहराबदार दरवाजे एक हॉल में खुलते हैं जिसमें तीन गुंबद हुआ करते थे। हालाँकि, दक्षिणी गुंबद गिर गया है। हॉल के उत्तरी भाग में पलस्तर की सतह पर जगह-जगह हल्के अरबी शिलालेख चित्रित हैं। प्रवेश का समयः सूर्योदय से सूर्यास्त तक

अलवर के उत्सव और परम्पराओं के आंनद में सम्मिलित हों। राजस्थान में हर दिन एक उत्सव है।

Pointer Icon
  • मत्स्य उत्सव

    मत्स्य उत्सव

    अलवर का मत्स्य उत्सव राजस्थान के सभी मेलों और त्योहारों में अग्रणी है। पारंपरिक मूल्यों, रीति-रिवाजों की महिमा मनाता यह उत्सव रंगबिरंगी शोभायात्रा, सांस्कृतिक प्रदर्शन, खेलकूद साहसिक गतिविधिओं और कलात्मक प्रदर्शनियों के लिए प्रसिद्ध है। अलवर के शानदार महल, किले, झीलें, पुरातात्विक स्थल और प्राकर्तिक परिदृश्य इस भव्य उत्सव का ताना बाना रचते हैं।

अलवर में गतिविधियाँ, पर्यटन और रोमांच आपकी प्रतीक्षा कर रहे हैं। राजस्थान में करने के लिए सदैव कुछ निराला है।

Pointer Icon
  • बाला क़िला बफर जोन (आघात के रक्षक क्षेत्र) सफारी

    बाला क़िला बफर जोन (आघात के रक्षक क्षेत्र) सफारी

    अलवर शहर का बाला क़िला एक प्रमुख क़िला है जो कि घने जंगलों से चारों तरफ से घिरा हुआ है। यह क्षेत्र फूलों और पेड़-पौधों से भरपूर, अरावली परिस्थितिकी तंत्र की, जैव विविधता का प्रतिनिधित्व करता है। घने जंगलों के बीच इस क्षेत्र में बहुत से विरासती भवन हैं जो कि अपने राजसी अतीत को दर्शाते हैं, उन में सूरज कुण्ड, माटिया कुण्ड और सलीम सागर हैं। बाला क़िला से सफारी रूट पर जाने पर, आपको पहाड़ों और जंगलों में घूमने का आश्चर्यचकित कर देने वाला अवसर प्राप्त होगा। इस क्षेत्र में सांभर, हिरण, हाइना, चीता और चिड़ियों की विभिन्न प्रजातियां देखने को मिलती हैं। अलवर शहर में बाला क़िला का चित्रमय, सुरम्य और प्रकृति मनोहारी दृश्य, उसकी क़िलेबन्दी, अरावली की पर्वतमाला और प्राचीन शिलाओं के विभिन्न रूप देखने के लिए इस जगह आना और सैर करना बड़ा महत्वपूर्ण है। सफारी का समय: सुबह 6 बजे से शाम 6 बजे तक।

यहाँ कैसे पहुंचें

यहाँ कैसे पहुंचें

  • Flight Icon सबसे नज़दीकी हवाई अड्डा, नई दिल्ली का इंदिरा गांधी अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा है जो कि अलवर से 122 कि.मी. की दूरी पर है। जयपुर का अन्तर्राष्ट्रीय हवाई अड्डा अलवर से 160 कि.मी. की दूरी पर है।
  • Car Icon अलवर के लिए सभी मुख्य शहरों से नियमित बसें उपलब्ध हैं।
  • Train Icon दिल्ली से जयपुर आने जाने वाली सभी ट्रेनें, अलवर स्टेशन पर रूकती हैं। शताब्दी एक्सप्रेस तथा डबल डैकर ट्रेन पर्यटकों के लिए सुविधाजनक हैं।

मैं अलवर का दौरा करना चाहता हूं

अपनी यात्रा की योजना बनाएं

अलवर के समीप देखने योग्य स्थल

  • जयपुर

    160 कि.मी.

  • अजमेर

    293 कि.मी.

  • भरतपुर

    120 कि.मी.